निर्भया के दोषियों को कल सुबह होनी है फांसी, आज होगा सुप्रीम कोर्ट में फैसला

0
निर्भया
  • पवन ने दाखिल की क्यूरेटिव पिटीशन
  • दोषी अक्षय के साथ मिलकर उसने दिल्ली की एक अदालत में सजा रोकने के लिए भी याचिका लगाई
  • डेथ वारंट पर रोक की भी मांग
  • सुप्रीम कोर्ट में होनी है आज सुनवाई

दिल्ली – निर्भया के गुनहगारों को कल सुबह फांसी होगी या नहीं? इस पर आज सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट अपना फैसला सुनाएगा. दरअसल, निर्भया के एक दोषी पवन कुमार ने फांसी से तीन दिन पहले यानी शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की और मौत की सजा को उम्रकैद में बदलने की मांग की. इस याचिका पर आज सुनवाई होगी.

दया याचिका में पूरे तथ्य नहीं थे:वकील

अक्षय के वकील एपी. सिंह के मुताबिक- पिछली दया याचिका में पूरे तथ्य नहीं थे, इसलिए वो खारिज हो गई थी। वहीं, पवन गुप्ता ने कहा है कि उसकी क्यूरेटिव पिटीशन सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग है। इस मामले में कुल चार दोषी हैं। चारों के खिलाफ तीन बार डेथ वॉरंट जारी हो चुका है, पिछले दो आदेशों पर फांसी टल गई।

डेथ वारंट पर रोक लगाने की मांग

सुप्रीम कोर्ट और दिल्ली हाई कोर्ट के अलावा आज पटियाला हाउस कोर्ट में भी निर्भया के दोषियों की अर्जी पर सुनवाई होगी. दरअसल, निर्भया के दोषी अक्षय और पवन ने कोर्ट में भी अर्जी लगाई, जिसमें डेथ वारंट पर रोक की मांग की गई है. कोर्ट में निर्भया के दोषी पवन ने दलील दी कि उसने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन लगाई है. लिहाजा उसकी फांसी की सजा पर रोक लगाई जाए.

Also Read सट्टेबाजों के ठिकानों पर रेड से मची भगदड़ तो लोगों ने फैला दी दिल्ली में हिंसा की अफवाह

सिर्फ पवन के पास कानूनी विकल्प

निर्भया मामले में चार जीवित दोषियों में से केवल पवन गुप्ता के पास ही कानूनी विकल्प मौजूद हैं। बाकी तीन दोषी विनय शर्मा, मुकेश सिंह और अक्षय ठाकुर पहले ही सभी उपलब्ध विकल्पों का इस्तेमाल कर चुके हैं। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट पवन की नाबालिग होने की याचिका और इस पर उसकी रिव्यू पिटीशन खारिज कर चुका है।

3 मार्च को सुबह 6 बजे फांसी

निर्भया के दोषियों को फांसी पर चढ़ाने के लिए तीसरी बार डेथ वारंट जारी किया गया है. इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट ने दो बार डेथ वारंट जारी किया था, लेकिन कानूनी अड़चनों के कारण दोनों बार डेथ वारंट कैंसिल कर दिया गया है. तीसरे डेथ वारंट के अनुसार, निर्भया के चारों दोषियों को 3 मार्च की सुबह 6 बजे फांसी दिया जाना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here